Abraham Lincoln Ki Jivan Kahani

Abraham Lincoln Ki Jivan Kahani: अब्राहम लिंकन का जन्म 12 फेब्रुवरी 1809 को अमेरिका के केनटकी राज्य के हार्डिन काउंटी नाम के एक जगह पर हुआ था. उनके पिता का नाम थॉमस लिंकन, मा का नाम नॅन्सी लिंकन था उनका पूरा परिवार बहोत ही ग़रीब था और खुद के बनाए हुए लकड़ी के मकान मे रहता था लिंकन के पिता खेती करते थे. अब्राहम के जन्म के दो साल के बाद ही ज़मीन के विवाद की वजह से लिंकन परिवार को वो जगह छोड़नी पड़ी उसके बाद वो नॉब क्रीक फार्म मे रहने आए और वहा पर ज़मीन को खेती के लायक बना कर काम करना शुरू कर दिया. लेकिन कुछ साल के बाद यहा पर भी उन्हे ज़मीनी विवाद झेलना पड़ा और फिरसे वहा से भी उस जगह को छोड़ कर जाना पड़ा.

Abraham Lincoln ki Jivan Kahani
Abraham Lincoln ki Jivan Kahani

जिसके बाद 1816 मे लिंकन परिवार इंडियाना के एक नदी किनारे आकर बस गया. अब्राहम लिंकन जब 6 साल के हुए तब उन्हे स्कूल भेजा गया लेकिन घर की हालत नाज़ुक होने के कारण उन्हे अपने पिता के साथ खेतो मे भी काम करना पड़ता था. और उनके पिता भी कभी नही चाहते थे की वो पढ़ाई लिखाई करे इसी वजह से कुछ ही दीनो मे अब्राहम को ना चाहते हुए भी पढ़ाई छोड़नी पड़ी. हालाकी उन्हे पढ़ाई का बहोत शौक था जब भी उन्हे समय मिलता तो वो दूसरो से कितबे लेकर पढ़ने लगते. Abraham Lincoln Ki Jivan Kahani

उसी बीच उनके जीवन मे दुखद मोड़ तब आया जब 5 ऑक्टोबर 1818 को उनकी मा का देहांत हुआ. उस समय अब्राहम केवल 9 साल के थे. मा के मृत्यु के बाद घर की सारी ज़िम्मेदारी अब्राहम की बेहन सारा पर आ गयी. उस समय सारा भी केवल 11 साल की थी. कुछ साल बाद घर के हालत देखकर थॉमस ने एक विधवा महिला से शादी कर ली. उस महिला के 3 बच्चे पहलेसे ही थे. अब्राहम को उसकी सौतेली मा ने उसकी सग़ी मा से भी ज़्यादा प्यार दिया. और कभी भी मा की कमी महसूस नही होने दी. (Read More: 3 Motivational Kahaniya)

कुछ समय बाद उनकी एक दुकान मे नौकरी लग गयी. यहा उन्हे पढ़ाई का भी टाइम मिलने लगा यही पर उन्होने किसी भी कॉलेज के मद्त के बगैर लॉ की पढ़ाई शुरू की. लॉ की पढ़ाई की दौरान उन्हे पता चला की नदी के उस तरफ एक रिटाइयीड जड्ज रहते है. जिसके पास लॉ की बहोत सारी क़िताबे है. लिंकन ने तय किया की वो जड्ज के पास जाएगे और उनसे लॉ की किताबे पढ़ने के लिए ले गये. उन दीनो बहुत ही कड़ाके की ठंड पड़ रही थी पर लिंकन ने बिना किसी परवाह के बर्फ़ीली नदी मे अपनी नाव उतार दी  थोड़ी दूर जाने पर उनकी नाव बर्फ से टकरा गई और टूट गयी फिर भी वो पीछे नही हटे बर्फ़ीली नदी तैरते हुए पार की और जड्ज के पास पोहच गये और उनसे रिक्वेस्ट की, की उन्हे लॉ की कितबे पढ़ने के लिए दे. तभी जड्ज का नौकर छुट्टी पर था तो उनके घर का काम करने के लिए कोई तो चाहिए था. किताबो के बदले लिंकन घर का सारा काम करते. Abraham Lincoln Ki Jivan Kahani

कुछ समय के बाद वो गाओं मे एक पोस्ट मास्टर बन गये. इस वजह से बहोत सारे लोग उन्हे जानने लगे. अब लिंकन ने स्थानिक लोगो की परेशानियो को देखकर राजनीति मे घुसने का सोचा. क्यूकी उस समय दास प्रथा चल रही थी और लिंकन को यह बिल्कुल पसंद नही था. इसी लिए उन्होने विधायक का चुनाव लड़ा पर उन्हे सफलता नही मिली. Abraham Lincoln Ki Jivan Kahani

24 साल की उम्र मे उन्ह एक लड़की से प्यार हो गया पर कुछ ही दीनो के बाद गंभीर बीमारी की वजह से उस लड़की की मृत्यु हो गयी. इस बात का लिंकन पर गहरा असर हुआ. वो घंटो घंटो तक अपनी प्रेमिका के क़ब्र के पास बैठकर रोते रहते थे. अब्राहम लिंकन के जीवन मे सबकुछ उनके खिलाफ चल रहा था. लिंकन का एक समय ऐसा भी था की वो चाकू छुरी से दूर रहते थे क्यूकी उन्हे डर था की कही वे खुद को ही ना मार दे. उस समय उनके एक मित्रा ने उनका मनोबल बढ़ाया और उन्हे डिप्रेशन से बाहर निकाला. अपनी दोस्त के मद्त से लिंकन फिर से चुनाव लढ़े और इस बाद जीत भी गये.  उसके बाद उन्होने 20 साल बिना किसीसे पैसे लिए वकालत की.

लिंकन ने 1842 मे शादी कर ली. 1860 मे लिंकन ने यूयेसे के राष्ट्रपति पद के लिए चुनाव लढ़े और 16 वे राष्ट्रपति बनकर अपने जीवन की सबसे बड़ी उपलब्धि हासिल की. उसके बाद उन्होने ऐसे महत्वपूर्ण काम किए जिसका लोगो को बहोत ज़्यादा फ़ायदा हुआ.

15 एप्रिल 1865 मे लिंकन की मौत हुई.

Please follow and like us:

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Facebook
Facebook
Google+
https://jivanindian.com/abraham-lincoln-ki-jivan-kahani">
Instagram
Twitter